History

बैंक का संक्षिप्त परिचय

  • आज़ादी से पहले वर्ष 1921 में हमारी बैंक “बैंक ऑफ़ बांसवाडा” के नाम से जानी जाती थी एवं इसी नाम के साथ काम करती थी ।
  • 21 जुलाई 1953 को बैंक “कोआपरेटिव सोसाइटी एक्ट 1953” के तहत रजिस्टर की गई । (Registration No. 115-B Dated : 21.07.1953) 
  • कोआपरेटिव सोसाइटी एक्ट 1953 के तहत रजिस्टर हो जाने के बाद इसका नाम बदल कर “दी बांसवाडा सेंट्रल कोआपरेटिव बैंक” रखा गया ।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक के लाइसेन्स संख्या ग्रा.आ.ऋ.वि. सह. 3, दिनांक मार्च 18, 2010 के द्वारा बैंकिंग व्यवसाय हेतू अधिकृत किया है ।
  • बैंक का रजिस्टर्ड प्रधान कार्यलय , अम्बामाता मंदिर के पास, कॉलेज रोड, बांसवाडा – राजस्थान में स्थित है ।
  • बैंक का कार्यक्षेत्र बांसवाडा जिला है। बैंक की जिले में 11 शाखाऐं है।

 हमारी शाखाओं की सूची शाखा खुलने की तिथि से निम्न प्रकार है

Branch BRANCH NAME DATE OF OPENING
1 HEAD OFFICE, BANSWARA (मुख्य शाखा, बांसवाडा) 21-07-1953
2 PARTAPUR (परतापुर) 04-10-1962
3 KUSHALGARH (कुशलगढ़) 16-11-1962
4 BAGIDORA (बागीदोरा) 22-02-1977
5 GHATOL (घाटोल) 16-03-1978
6 CITY BRANCH, BANSWARA (सिटी शाखा, बांसवाडा) 05-08-1981
7 NAI ABADI, BANSWARA (नई आबादी, बांसवाडा) 03-03-1983
8 COLLEGE ROAD, BANSWARA (कॉलेज रोड, बांसवाडा) 02-08-1989
9 SAJJANGARH (सज्जनगढ़) 01-09-2008
10 GANGARTALAI (गंगढ़तालाई) 04-04-2015
11 TALWARA (तलवाडा) 11-05-2015

हमारा ध्येय

  • बैंक के ग्राहकों को अत्याधुनिक कोर बैंकिंग सेवा उपलब्ध कराना ।
  • ग्राहकों को बेहतर व त्वरित सेवाएं प्रदान करना हो ।
  • प्रदेश के किसानो को न्यूनतम ब्याज दर में समय पर साख सुविधा (कृषि ऋण) प्रदान कर कृषि उत्पादकता में वृद्धि करना ।
  • देश में सहकारी आंदोलन को मजबूत बनाने के लिए अग्रणी सहकारी बैंक के रूप में कार्य करना ।
  • संगठन को गतिशील बनाना, नई चुनौतियों के अनुरूप ढालने के लिए सशक्त रणनीति तैयार करना, अपनी पूर्व उपलब्धियों और
  • अनुभव के आधार पर उपलब्ध अवसरों का समुचित उपयोग करना जिससे ग्राहको को उच्चस्तरीय सेवाएं प्राप्त हो सकें एवं लाभार्जन किया जा सके।